Tujh Mein Rab Dikhta Hai Lyrics – Roop Kumar Rathod

 

SingerRoop Kumar Rathod

 

Tujh Mein Rab Dikhta Hai Lyrics

 

Tu hi to jannat meri
Tu hi mera junnon
Tu hi to mannat meri
Tu hi rooh ka sukun
Tu hi ankhiyon ki thandak
Tu hi dil ki hai dastak
Aur kuch na janu mein
Bas itna hi jaanu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu
Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu

Sajde sae jhukta hai
Yaara mein kya karu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu
Kaise hai yeh doori
Kaise majboori
Mene nazaron se tujhe choo liya
Kabhi teri khusboo
Kabhi teri baatein
Bin maange yeh jahan pa liya

Tu hi dil ki ha rounak
Tu hi janmon ki daulat
Aur kuch na janu

Bas itna hi janu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu
Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu

Sajde sae jhukta hai
Yaara mein kya karu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu

Rab ne bana di jodi
Cham cham aaye
Mujhse tarshaye
Tera shaya ched ki chumta
O o
Tu jo muskaye
Tu jo sharmaye
Jaise mera hai khuda jhomta
Tu hi meri barkart
Tu hi meri ibaadat

Aur kuch na janu
Bas itna hi janu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu
Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu

Sajde sae jhukta hai
Yaara mein kya karu

Tujhe mein rab dikhta hai
Yaara mein kya karu

Rab ne bana di jodi.

 

 

tujh mein rab dikhta hai lyrics in hindi

तू ही तो जन्नत मेरी
तू ही मेरा जुन्नों
तू ही तो मन्नत मेरी
तू ही रूह का सुकून
तू ही अँखियों की ठंडक
तू ही दिल की है दस्तक
और कुछ न जणू में
बस इतना ही जानु

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ
तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ

सजदे से झुकता है
यारा में क्या करूँ

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ
कैसे है यह दूरी
कैसे मजबूरी
मेने नज़रों से तुझे छू लिया
कभी तेरी खुश्बू
कभी तेरी बातें
बिन मांगे यह जहाँ प् लिया

तू ही दिल की ः रौनक
तू ही जन्मों की दौलत
और कुछ न जणू

बस इतना ही जणू

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ
तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ

सजदे से झुकता है
यारा में क्या करूँ

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ

रब ने बना दी जोड़ी
चम् चम् आये
मुझसे तर्शाये
तेरा शया छेड़ की चुमता
ओ ओ
तू जो मुस्काये
तू जो शरमाये
जैसे मेरा है खुदा झोँटा
तू ही मेरी बरकारत
तू ही मेरी इबादत

और कुछ न जणू
बस इतना ही जणू

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ
तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ

सजदे से झुकता है
यारा में क्या करूँ

तुझे में रब दिखता है
यारा में क्या करूँ

रब ने बना दी जोड़ी.

Want to suggest any changes to the lyrics Please do so in the comments section below:

Leave a Reply