Qaafirana Lyrics – Arijit Singh & Nikhita Gandhi Lyrics

 

SingerArijit Singh & Nikhita Gandhi

Qaafirana Lyrics English

 

Inn waadiyon mein takra chuke hai
Humse musafir yun toh kayi
Dil na lagaya humne kisi se
Qisse sune hai yun toh kayi

Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

Khamoshiyon mein boli tumhari
Kuchh iss tarah goonjti hai
Kaano se mere hote huye wo
Dil ka pata dhoondhti hai
Beswadiyon mein, beswadiyon mein
Jaise mil raha ho koi zayka

Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

Aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai…

La la la…
Aah ha aah ha…

Godhi mein pahadiyon ki
Ujli dopahri guzarna
Haaye haaye tere saath mein, acha lage
Sharmeeli akhiyon se tera
Meri nazrein utaarna
Haaye haaye har baat pe, acha lage

Dhalti huyi shaam ne bataya hai
Ki door manzil pe raat hai
Mujhko tasalli hai yeh
Ki hone talak raat hum dono saath hai

Sang chal rahe hai
Sang chal rahe hai
Dhoop ke kinaare chhaaon ki tarah
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai

Hmm… aise tum mile ho
Aise tum mile ho
Jaise mil rahi ho itr se hawa
Qaafirana sa hai
Ishq hai ya kya hai…

 

Qaafirana Lyrics Hindi

 

इन वादियों में टकरा चुके है
हमसे मुसाफिर यूँ तो कई
दिल न लगाया हमने किसी से
किस्से सुने है यूँ तो कई
ऐसे तुम मिले हो, ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो इत्र से हवा
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है
ऐसे तुम मिले हो, ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो इत्र से हवा
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है
खामोशियों में बोली तुम्हारी कुछ इस तरह गूँजती है
कानो से मेरे होते हुए वो दिल का पता ढूँढ़ती है
वेस्वादियों में वेस्वादियों में जैसे मिल रहा हो कोई जायका
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है
ऐसे तुम मिले हो, ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो इत्र से हवा
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है
गोदी में पहाड़ियों की उजली दोपहरी गुजारना
हाय हाय तेरे साथ मे अच्छा लगे
शर्मिली अँखियों से तेरा मेरी नज़रे उतारना
हाय हाय हर बात पे अच्छा लगे
ढलती हुई शाम ने बताया है कि दूर मंज़िल पे रात है
मुझको तसल्ली है ये कि होने तलक रात हम दोनों साथ हैं
संग चल रहे है, संग चल रहे है धूप के किनारे छाँव के तरह
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है
ऐसे तुम मिले हो, ऐसे तुम मिले हो
जैसे मिल रही हो इत्र से हवा
काफिराना सा है इश्क़ है या क्या है

Want to suggest any changes to the lyrics Please do so in the comments section below:

Leave a Reply