Phir Kabhi Lyrics – Arijit Singh

 

SingerArijit Singh

 

Phir Kabhi Lyrics

 

Yeh lamha jo thehra hai
Mera hai ye tera hai
Yeh lamha main jee loon zaraTujh mein khoya rahoon main
Mujh mein khoyi rahe tu
Khudko dhoondh lenge phir kabhi
Tujhse milta rahoon main
Mujhse milti rahe tu
Khud se hum milenge phir kabhi
Haa. phir kabhiKyun bewajah gungunaaye
Kyun bewajah muskuraaye
Palkein chamakne lagi hai
Ab khwaab kaise chupaaye
Behki si baatein kar lain
Hans hans ke aankhen bhar lain
Ye behoshiyan phir kahanTujhme khoya rahoon main
Mujhme khoyi rahe tu
Khud ko dhoondh lenge phir kabhi
Tujhse milta rahoon main
Mujhse milti rahe tu
Khud se hum milenge phir kabhi
Haa. phir kabhiDil pe taras aa raha hai
Pagal kahin ho na jaaye
Woh bhi main sun’ne laga hoon
Jo tum kabhi keh na paayeYeh subah phir aayegi
Yeh shamein phir aayengi
Yeh nazdeekiyaan phir kahan
Tujhme khoya rahoon main
Mujhme khoyi rahe tu
Khud ko dhoondh lenge phir kabhi
Tujhse milta rahoon main
Mujhse milti rahe tu
Khud se hum milenge phir kabhi
Haa. phir kabhi

 

 

Phir Kabhi Lyrics Arijit

 

ये लम्हा जो ठहरा है
मेरा है ये तेरा है
ये लम्हा मैं जी लूं ज़रा

तुझमें खोया रहूँ मैं
मुझ में खोयी रहे तू
खुदको ढूंढ लेंगे फिर कभी
तुझसे मिलता रहूँ मैं
मुझसे मिलती रहे तू
ख़ुद से हम मिलेंगे फिर कभी
हाँ फिर कभी

क्यूँ बेवजह गुनगुनाएं
क्यूँ बेवजह मुस्कुराएं
पलकें चमकने लगी है
अब ख्वाब कैसे छुपायें

बहकी सी बातें कर लें
हंस हंस के आँखें भर लें
ये बेहोशियाँ फिर कहाँ

तुझमें खोया रहूँ मैं
मुझमें खोयी रहे तू
ख़ुद दो ढूंढ लेंगे फिर कभी
तुझसे मिलता रहूँ मैं
मुझसे मिलती रहे तू
ख़ुद से हम मिलेंगे फिर कभी
हाँ फिर कभी

दिल पे तरस आ रहा है
पागल कहीं हो ना जाएँ
वो भी मैं सुनने लगा हूँ
जो तुम कभी कह ना पाए

ये सुबह फिर आएगी
ये शामें फिर आएंगी
ये नजदीकियां फिर कहाँ

तुझमें खोया रहूँ मैं
मुझमें खोयी रहे तू
ख़ुद दो ढूंढ लेंगे फिर कभी
तुझसे मिलता रहूँ मैं
मुझसे मिलती रहे तू
ख़ुद से हम मिलेंगे फिर कभी
हाँ फिर कभी

Want to suggest any changes to the lyrics Please do so in the comments section below:

Leave a Reply