Paigaam Liya Hai Hindi Shayari

पैगाम लिया है कभी पैगाम दिया है,
आँखों ने मोहब्बत में बड़ा काम किया है।

Paigaam Lya Ha Kabhi Paigaam Diya Ha,
Aankhoon Ne Mohabbat Mein Bada Kaam Kya Ha.

जाती है इस झील की गहराई कहाँ तक,
आँखों में तेरी डूब के देखेंगे किसी रोज।

Jaati Ha Iss Jheel Ki Gehraayi Kahan Tak,
Aankhoon Mein Teri Doob K  Dekhenge Kisi Roj.

अदा से देख लो जाता रहे गिला दिल का,
बस इक निगाह पे ठहरा है फ़ैसला दिल का।

Adaa Se Dekh Lo Jaata Rahe Gila Dil Ka,
Bas Ek Nigaah Pe Thhehra Ha Faisla Dil Ka.

बस इक लतीफ़ तबस्सुम बस इक हसीन नजर,
मरीजे-ग़म की हालत सुधर तो सकती है।

Bas Ek Lateef Tabassum Bas Ek Haseen Najar,
Mareej-e-Gham Ki Halat Sudhar To Sakti Ha.

सौ तीर जमाने के इक तीरे नजर तेरा,
अब क्या कोई समझेगा दिल किसका निशाना है?

Sau Teer Zamane Ke Ek Teer-e-Najar Tera,
Ab Kya Koyi Samjhega Dil Kiska Nishana Ha.

मेरे होठों ने हर बात छुपा कर रखी थी,
आँखों को ये हुनर कभी आया ही नहीं।

Mere Honthhon Ne Har Baat Chhupa Rakhi Thi,
Aankhon Ko Ye Hunar Kabhi Aaaya Hi Nahin.

Leave a Reply