Nasheeli Aankho Se Hindi Shayari

महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है,
नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है,
दो घूँट पी लेने दे आँखों के प्याले से,
नशा तेरी आँखों का शराब जैसा है।

Mahekta Hua Jism Tera Gulaab Jaisa Ha,
Neend K Safar Mein Tu Ek Khwaab Jaisa Ha,
Do Ghoont Pe Lene De Aankhon Ke Pyaale Se,
Nashaa Teri Aankhoon Mein Sharab Jaisa Ha.

नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं,
हम घबरा कर आँखें झुका लेते हैं,
कौन मिलाये उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं।

Nasheeli Aankho Se Wo Jab Humein Dekhte Hain,
Hum Ghabra K Aankhe Jhuka Lete Hain,
Kaun Milaaye Un Aankhon Se Aankhein,
Suna Ha Wo Aankhon Se Apna Bana Lete Ha.

हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,
रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,
अब तमन्ना हुई है फिर से जीने की हमें,
कुछ तो बात है सनम तेरी निगाहों में।

Hum Bhatkte Rahe They Anjaan Raahon Mein,
Raat Din Kaat Rahe They Yoon Hi Bas Aahon Mein,
Ab Tamanna Huyi Ha Fir Se Jeene Ki Humein,
Kuchh Baat To Ha Sanam Teri Nigahon Mein.

Leave a Reply