Ek Teri Aankhon Ko |Aankhein Shayari

तमाम अल्फाज़ नाकाफी लगे मुझको,
एक तेरी आँखों को बयां करने में।

Tamaam Alfaz NaKaafi Lage Mujh ko,
Ek Teri Aankhoon Ko Bayaan Krne Mein.

ये कायनात सुराही थी, जाम आँखें थीं,
मुवसलत का पहला निज़ाम आँखें थीं।

Ye Kaynat Surahi Thi, Jaam Ankhein Thi,
Muwasalat Ka Pehla Nizam Ankhein Thi.

जो उनकी आँखों से बयां होते हैं,
वो लफ्ज़ शायरी में कहाँ होते हैं।

Jo Unki Aankhoo Se Bayaan Hote Hain,
Woh Lafz Shayari Mein Kahan Hote Hain.

कुछ नहीं कहती निगाहें मगर,
बात पहुँची है कहाँ से कहाँ।

Kuchh Nahin Kehti Nigahein Magar,
Baat Pahuchi Ha Kahan Se Kahan.

वह नजर उठ गई जब सरे मैकदा,
खुद-ब-खुद जाम से जाम टकरा गये।

Wo Najar Uthh Gayi Jab Sare Maiqada,
Khud-Ba-Khud Jaam Se Jaam Takra Gaye.

मुझ से कहती थीं वो शराब आँखें,
आप वो ज़हर मत पिया कीजिये।

Mujh se Kehti Thi Wo Sharab Aankhein,
Aap Wo Zeher Mat Piya Kijiye.

Leave a Reply