Deshbhakti Shayari in hindi

Deshbhakti Shayari, Desh Ka Sammaan

Main Apny Desh Ka Hardam Samman Karta Hun,
Yahan Ki Mitti Ka Hi Gunagaan Karta Hun,
Mujhe Dar Nahin Ha Apani Maut Se,
Tiranga Bane Kafan Mera, Yahe Armaan Rakhta Hun.

मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे डर नहीं है अपनी मौत से,
तिरंगा बने कफ़न मेरा, यही अरमान रखता हूँ।

Apne Aazadi Ki Kabhi Shaam Hony Nahin Denge,
Shaheedo Ki Kurbani Barbaad Nahin Hony Denge,
Bachi Ho Jo Ek Boond Khoon Ki Katre Ki,
Tab Tak Bharatmata Par Aanch Na Aane Denge.

अपनी आजादी की कभी शाम होने नहीं देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बरबाद नहीं होने देंगे,
बची हो जो एक खून के कतरे की,
तब तक भारतमाता पर आंच न आने देंगे।

Vatan Par Shayari

Khushnaseeb Hain Vo Jo Desh Par Met Jaate Hain,
Markar B Vo Log Amar Ho Jaate Hain,
Karta Hun Unhen Salam, Vatan Py Mitane Walo,
Tumhari Har Saans Me Desh Ka Naseeb Basta Hai.

खुशनसीब हैं वो जो देश पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में देश का नसीब बसता है।

Leave a Reply