Aur Ek Teri Aankehin Hain Hindi Shayari

साकी को गिला है कि उसकी बिकती नहीं शराब,
और एक तेरी आँखें हैं कि होश में आने नहीं देती।

Saqi Ko Gila Hi K Uski Bikti Nahi Sharab,
Aur Ek Teri Aankehin Hain Hosh Mein Aane Nahi Deti.

इतने सवाल थे कि मेरी उम्र से न सिमट सके,
जितने जवाब थे कि तेरी एक निगाह में आ गए।

Itne Sawaal The Ke Meri Umar Se Na Simat Sake,
Jitne Jawaab The Ke Teri Ek Nigah Mein Aa Gaye.

सुबह तो हो गई पर ये अभी आँख भारी है,
ख्बाव कोई नशे सा अब तक आँखों में है।

Subah To Ho Gayi Par Ye Aankh Abhi Bhaari Hain,
Khwaab Koi Nashe Sa Ab Tak Aankhon Mein Ha.

उसकी कुदरत देखता हूँ तेरी आँखें देखकर,
दो पियालों में भरी है कैसे लाखों मन शराब।

Uski Kudrat Dekhta Hoon Teri Aankhein Dekh kar,
Do Pyalon Mein Bhari Ha Kaise Lakhon Man Sharab.

निगाहों से कत्ल कर दे न हो तकलीफ दोनों को,
तुझे खंजर उठाने की मुझे गर्दन झुकाने की।

Nigaahon Se Qatl Kr De Na Ho Takleef Dono Ko,
Tujhe Khanjar Uthhane Ki Mujhe Gardan Jhukane Ki.

Leave a Reply